हमारे बारे मे

जब बच्चों का जन्म होता है तब माता - पिताके लिए खाुषी का दिन होता है, समय के साथ साथ बच्चा जब बडा होने लगता है तब मातापिता को अहसास होता है की, मेरा बच्चा मानिसक विकलांग है तो उस माता पिता पर क्या गुजरती होगी? वह सबसे दुःख का दिन होता है ना कोई उत्सव, आनंद, समय के साथ् साथ उन मानिसक विकलांग बच्चे बोझ होन लगता है और उन मानिसक विकलांग बच्चों पर अक्सर माता पिता कोई भी निवेष नही करते। क्या है इन मानसिक विकलांग बच्चों की गलती? क्या इन बच्चों की देखभाल करना परिवार और समाज की जिम्मेदारी नही है?
ऐसे मानसिक विकलांग बच्चों की सेवा ‘मानव सेवा’ ही इष्वर सेवा। इस वाक्य को सामने रखकर किसन चहांदे सर इन्होंने 23 मे 1996 में सस्था रजिस्टर्ड करके 1997 मे मुकबधीर, मानसिक , विकलांग बच्चो की निवासी स्कूल की स्थापना की.इस स्कुल में निःषुल्क निवास, शिक्षा , पुर्नवसन का कार्य किराए के घर में षुरू किया, अभी हर साल 100 मुकबधीर, मानसिक दिवंग बच्चे लाभ उठा रहे है।
संस्था ने इन दिव्यांग बच्चो के निवास के लिए 5677 चै. फुट की जगह उपलब्ध कराई 4200 चै. फुट पर इन बच्चो के लिए सभी सुविधा युक्त विषेश स्कूुल का निर्माण के लिए 15 फरवरी 2020 को भुमीपूजन कर तीन मंजील इमारत का काम सभी सेवाभावियो के सहयोग से सुरू किया। कृपया आप अपना योगदान देकर मानिसक विकलांग बच्चो का भविष्य बनाने मे मदद करे।




एकता बहुद्देषीय एज्युकेषन सोसायटी यह एक गैर लाभकारी संगठन है। हमारा संगठन मुक, बधीर मानसिक विकलांग बच्चों को, सेवा प्रदान करके इनके जीवन मे सुधार करने का प्रयत्न करता है।
हमारी संस्था की भुमिका
❒  विकलांगता पर रोक लग सके
❒  विकलांगता को शिक्षा प्राप्त हो सके
❒ विकलांगता का पुनर्वास हो सके
❒  विकलांगता की पहचान हो सके
❒  विकलांगता को समाज में समानता का अधिकार मिल सके
❒  विकलांगता को उनकी योग्यतानुसार काम मिल सके।

कानुनी पंजीकरण

अधिनियम 1860  pdf file
अधिनियम 1950  pdf file
अधिनियम 1961  pdf file






Image placeholder
Image placeholder
Image placeholder
Image placeholder




'एकता'  के बारे में

प्रष्न: क्या ‘एकता’ किस प्रकार की संघटना है?
उत्तर: यह एक सामाजिक धर्मदाय संघटन है। जो नफा और नुकसान रहीत चलाई जाती है। निधी का उपयोग, मानिसक विकलांग बच्चो को लाभ पहुॅंचाने के लिए किया जाता है।

प्रष्न: ‘एकता’ का मिषन क्या है?
उत्तर: विषेश जरूरतवाले बच्चों का सषक्तीकरण मिषन है ताकी वे भी जीवन की मुख्या धारा में षामिल हो सकें और दुसरो की तरह जी सके।

प्रष्न: क्या ‘एकता’ पंजीकृत है?
उत्तर: ‘एकता ’ अधिनियम 1950 और अधिनियम 1860 अंतर्गत पंजीकृत है।

प्रष्न: ‘एकता’ के उपक्रमा में बच्चे कहा से आते है?
उत्तर: ‘एकता’ के उपक्रम मे नागपूर शहर और आसपास के ग्रामीण इलाकों से बच्चे आते है।

प्रष्न: बच्चो की उम्र क्या होती है?
उत्तर: बच्चों की उम्र 3 से 18 वर्श आयु की होती है।

प्रष्न: बच्चो के लिए किस प्रकार की सुविधये उपलब्ध है?
उत्तर: सभी मानसिक विकलांग बच्चों को निःषुल्क निवास, शिक्षा और प्रशिक्षण दिया जाता है। उपचार में फीजिओथेरपी, स्पीच थेरपी, योगा, ध्यान, हास्य आदि साथ ही उन्हें व्यवसायिक प्रशिक्षण दिया जाता है जिससे वे स्वतंत्र हो सके।

प्रष्न: ‘एकता’ के उपक्रम में शिक्षा पूरा करने के बाद बच्चों के साथ क्या होता है?
उत्तर: बच्चों को शिक्षा और व्यावसायिक प्रशिक्षण देने के बाद मानसिक विकलाग बच्चा मोमबत्ती , हस्तशिल्प और कई तरह के वस्तुओं का उत्पादन करके, विक्री के माध्यम से पैसे कमाने लगता है।

प्रष्न: संसाधनो का उपयोग कैसे किया जाता है।
उत्तर: दान का उपयोग ‘एकता’ के बच्चों के लिए विषेश स्कूल का निर्माण के लिए किया जाता है और बाकी का उपयोग नियमित रूप से बच्चों के पर्वरीष पर खर्च किया जाता है।

प्रष्न ‘एकता’ के और कोनसे उपक्रम है?
उत्तर: प्राकृतिक भोजन प्रणाली यह एकता का निःषुल्क उपक्रम है षारीरिक और मानसिक कोई भी रोग हो जड से मापत किया जाता है मानव सेवा ही धर्म है।

प्रष्न: ‘एकता’ की भविश्य की योजनाएॅं क्या है?
उत्तर: वयस्क होने पर जो बच्चे अपने माता पिता को घर से निकालते है घर मे सुखनही मिलता जिनके बच्चे बाहर देष मे या दूसरे षहर में रहते है वे वयस्क एकांत महसूस करते है उनके लिए ‘अपनाघर’ वृध्दाश्रम का निर्माण करना।

प्रष्नः क्या मेरे छोटे से योगदान से इस भारी समस्या पर फर्क पडेगा?
उत्तरः हां फर्क पडेगा ही थोडा थोडा योगदान एक जगह आने पर भारी मात्रा मे हो जाएगा तब बहुत फर्क पडेगा।

प्रष्नः ‘एकता’ को अभी क्या आवष्यकता है?
उत्तर: मानसिक विकलांग बच्चो के लिए विषेश स्कूल का निर्माण करना, क्योंकी घर किराये का है, बच्चों को विकास करतना कठीणाई महसूस कर रहे है। इसलिए अपनी क्षमता नुसार इटा, रेती, गिट्टी , सिमेंट लोहा या नगद राषी देकर स्कूल निर्माण करने मे मदत कर सकते है।



हमारी सेवाएं

हमारी सेवाएं
❒  व्यावसायिक शिल्प
❒  पेपर बॅग बनाना
❒ आभूषण बनाना
❒  मोमबत्ती बनाना
❒  ग्रिटींग कार्ड बनाना
पुनर्वसन चिकित्सा
❒  फिजीओथेरपी
❒  वाक चिकित्सा
❒ स्वर, वाद्य,संगीत चिकित्सा
❒  लोक नृत्य चिकित्सा
❒  योगा चिकित्सा
❒  ध्यान चिकित्सा
❒  खेल बास्केट बाॅल, कॅरम, बॅडमिंटन, कबडडी
❒  हमारे छात्र स्टेट और इंटर नॅषनल स्पेार्ट मे भाग लेते है।




एकता बहुद्देषीय एज्युकेशन सोसायटी , नागपूर
‘एकता’ एक धर्मार्थ, गैर मुनाफाखोर संस्था है. संस्था मुकबधीर, मानसिक विकलांग बच्चो के शिक्षण, प्रशिक्षण और पुर्नवसन का कार्य सभी सेवाभावियों के सहयोग से कर रही है।
मानसिक , विकलाग ' मानव सेवा ' ही सच्ची ईश्वर सेवा है। इससे बडा कोई धर्म नही। इसलिए इस ‘मानव सेवा’ के मिशन को आगे बढाने हम से जुडे।
धन्यवाद !